SHARE

कल बीते रात ही संजय लीला भंसाली की लात घूसों से जमकर पिटाई की गयी है और इसके बाद से सोशल मीडिया दो खेमो में बंट गया है एक तरफ रोहित सरदाना जैसे लोग है जो खुदको राष्ट्रवादी बताते है वही दूसरी तरफ अनुराग ठाकुर जैसे लोग है जो कि खुदको इंटलेक्चुअल वामपंथी मानते है और राष्ट्रवादी खेमा हर जगह पर भारी पड़े ही जा रहा है, आपको जानकारी न हो तो बता दे कि कुछ ही वक्त पहले संजय लीला भंसाली को राजपूत करनी सेना के द्वारा पीटा गया है जिसके बाद से पूरा बॉलीवुड और उनके समर्थक लोग गुस्से में है

संजय लीला भंसाली को रानी पद्मिनी पर फिल्म बनाने के लिए पीटा गया है, राजपूत समाज के मुताबिक़ इन लोगो ने उनके इतिहास के साथ छेड़छाड़ करने की कोशिश की है और इसके लिए वो ऐसे तत्वों को बख्शने मूड में बिलकुल भी नहीं है

 

post

 

इसी के साथ ही रोहित सरदाना ने भी दे पटक कर मारा है रोहित सरदान ने अपनी फेसबुक पोस्ट के जरिये सीधे निशाना साधा है
rohit

जिसमे ऐसे डबल स्टैण्डर्ड लोगो से कहा गया है कि वो क़ानून और कोर्ट जैसी बाते न ही करे तो ही अच्छा लगेगा क्योंकि ये फिर डबल स्टैण्डर्ड में आ जाएगा और ये कत्तई स्वीकार्य नहीं हो सकता है इसी के साथ ही उन्होंने हिंसा से भी किनारा तो किया लेकिन एक तरफा हिंसा को सही जबकि  कोई दो थप्पड़ भी लगा दे तो उसे हिन्दू आतंक का नाम देने वालो को लपेटे में लेकर खूब बजाई है

रोहित सरदाना ही अकेले ऐसे पत्रकार है जिन्होंने बिना लीडरशिप के लड़ रहे राष्ट्रवादियो को मच दिया है ताकत दी है ताकि सच सामने आ सके और भंसाली जैसे डबल स्टैण्डर्ड लोगो के बारे में पब्लिक जान सके

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY